SHARE

Short Speech On Independence Day:  short speech on independence day of india, short speech on independence day in hindi, short speech on independence day of india in english for students, short speech on independence day for school students, short speech on independence day for primary students, , short speech on independence day of india in hindi, short speech on independence day in english, short speech on independence day, independence day speech, speech on independence day, independence day speech in hindi

Independence-Day-Wallpapers-2016

Prepare your shortest speech 15 August 2016, This is India’s 70th Independence Day and prepare for it in 2 minutes, express on stage at school to represent your nation in front of Chief Guest at school and office.

Short Speech On Independence Day {*70th}- 15 August 2016

आगामी 15 अगस्त को भारत अपना 70वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहा है, कुछ ही दिनों बाद भारत का वह महापर्व आने वाला है| आजादी के इस महापर्व में कोई महान देश भक्तो की आहुति दी गईं है तब जाकर यह प्राप्त हुई है, आजादी का सही अर्थ वही समझ सकता है जिसने गुलामी के दिन झेले हाँ |

What is Freedom: क्या है आजादी
आजादी को परिभाषित करना बहुत मुश्किल है | हर इंसान अपनी बुद्धि का सही उपयोग करते हुए आजादी की सीमा तय करता है | हर व्यक्ति स्वतंत्र रहना चाहता है, परंतु इसकी अधिकता कभी-कभी नुकसानदेह साबित होती है |

आजादी का अर्थ है – विकास के पथ पर आगे बढ़कर देश और समाज को ऐसी दिशा देना, जिससे हमारे देश की संस्कृति की सोंधी खुशबु चारो और फ़ैल सके, लेकिन आज हमारी युवा पीढ़ी आजादी के सही मायने भूलती जा रही है| युवा लोग पाश्चात्य संस्कृति से अत्यधिक प्रभावित हो रही है| आज हमें अपनी आजादी का सदुपयोग करते हुए समाज और देश को विकास के पथ पर ले जाना चाहिए |

What is Freedom for You ????
आज बेटी – बेटे को समानता का दर्जा दिया जाता है, लेकिन समाज का माहोल देखते हुए लड़कियों की सुरक्षा की द्रष्टि से माता-पिता उनकी आजादी की सीमाएं तय कर देते हैं, जो की किसी भी द्रष्टि से गलत नही है | यही बात बेटों पर भी लागू होती है. उन्हें भी अनुशाषित करने के लिए समय-समय पर उनकी आजादी की सीमाएं तय करना बहुत जरुरी है, आजादी से तुलना बहुत जरुरी है|
आज एक जुर्म करने के लिए एक अमीर आदमी को तो कुछ घंटो की सजा या फिर बिना सजा के ही छोड़ दिया जाता है लेकिन एक गरीब आदमी को छोटे से छोटे जुर्म या कभी-कभी जो जुर्म उसने किया भी ना हो उसकी सजा भी मिल जाती है|

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY